Federal Emergency Management Agency

FEMA ने न्यू यार्क में ट्रांज़िश्नल आवास कार्यक्रम आगे बढ़ाया

Main Content
Release date: 
02/21/2013
Release Number: 
176

न्यू यार्क  – फैडरल आपदा प्रबंधन एजेंसी ने न्यू यार्क राज्य के अनुरोध पर ट्रांज़िश्नल आवास कार्यक्रम (टीएसए) को 14 दिन के लिए बढ़ा दिया है। टीएसए या ट्रांज़िश्नल आवास कार्यक्रम वह कार्यक्रम है जिसके तहत अपने घरों को लौटने में असमर्थ योग्य तूफान पीड़ित भागीदार होटलों व मोटलों में रहना जारी रख सकते हैं।

 

इस टीएसए के तहत नई चैकआउट तारीख है 10 मार्च, 2013 । FEMA स्थानीय, राज्य व स्वैच्छिक संस्थाओं के साथ’ समन्वय कर के अपने आउटरीच एवं व्यापर्क केस कार्यों के द्वारा आवेदकों की मदद कर रही है, ताकि उन्हें पहचान कर उपयुक्त अस्थाई या स्थाई आवासों में भेजा जा सके। इस अवधि विस्तार के योग्य आवेदकों को नई चेकाउट तारीख के बारे में सूचित किया जा रहा है।

 

अस्थाई ट्रांज़िश्नल आवास कार्यक्रम उन योग्य तूफान सैंडी पीड़ितों को सीमित समय के लिए होटल या मोटल में रहने की अनुमति देता है जिनके घर बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हुए हैं; इन कमरों का भाड़ा व कर FEMA सीधे होटल को चुकाता है।

 

यह अवधि विस्तार उन लोगों के लिए मान्य किया गया जो अभी भी इसके योग्य हैं, ताकि वे तब तक इन होटलों में रह सकें जब तक FEMA इन सब के लिए स्थाई आवास सुविधाएँ नहीं तलाश लेती। होटलों में रह रहे सभी टीएसए आवेदकों को पात्रता की निरंतरता के लिए जाँचा जाएगा।

 

भोजन, फोन काल व अन्य घटनात्मक व्यय इसमें शामिल नहीं हैं, और मान्य भत्ते से ऊपर के आवास खर्चे के लिए आवेदक स्वयं उत्तरदाई हैं। यह कार्यक्रम पहले से किए जा चुके होटल व्ययों की भरपाई नहीं करता।

 

न्यू यार्क में तूफान सैंडी के बारे में आउर जांकारी के लिए लाग इन करें: www.fema.gov/SandyNY, www.twitter.com/FEMASandy, www.facebook.com/FEMASandy और www.fema.gov/blog.

 

आपदा रिकवरी सहायता जाति, धर्म, लिंग, वर्ण या विकलांगता, आर्थिक स्तर या अंग्रेज़ी ज्ञान के किसी भेदभाव के बिना सभी को उपलब्ध है। यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति को जानते हैं जिसके साथ भेदभाव हुआ है तो FEMA टोल फ्री नंबर 800-621-FEMA (3362) पर काल करें; टीटीवाई के लिए 800-462-7585 पर काल करें। FEMA का लक्ष्य है अपने नागरिकों और प्रथम प्रतिवादियों की मदद करना जिससे हम अपनी क्षमताओं को बना और बढ़ा सकें ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आपदाओं के लिए तैयारी, उनके विरूद्ध सुरक्षा, उनका प्रत्युत्तर देने, उनसे उबरने उनसे पार पाने में हम सक्षम हों।

 

 

 

Last Updated: 
03/19/2013 - 11:58
Back to Top